• बारबरी नस्ल कि बकरी को सबसे पहले विदेशो से लाया गया था
  • Bakri palan ki jankari के लिए ये जानना आवश्यक है कि, इस नस्ल की पहचान . यह मध्यम कद की होती है परन्तु इसका शरीर काफी गठीला होता है।
  • शरीर पर छोटे.छोटे बाल पाये जाते हैं। शरीर पर सफेद रंग के साथ भूरा या सुनहरा रंग का धब्बा पाया जाता है।
  • यह देखने में खूबसूरत हिरण जैसी लगती है। Bakri palan ki jankari में ये ध्यान दे कि, इसकी नाक बहुत ही छोटी और कान खड़े हुए रहते हैं
  • मैदान के गर्म इलाकों के अलावा इसे पहाड़ के ठंडे इलाकों में भी इसे आसानी से पाला जा सकता है।
  • Goat farming training in India में ये ध्यान देना होगा कि, इसका थन काफी विकसित होता है।
  • मादा का वजन 25 से 30 किलो ग्राम होता है।
  • इस प्रजाति की बकरियों को घर में बांध कर गाय की तरह रखा जा सकता है।
  • इसकी प्रजनन क्षमता भी काफी अच्छी होती है।
  • इस नस्ल कि खासियत यह है कि यह साल में दो बार बच्चा देती है और 2 से 5 बच्चों को जन्म देती है। जिससे इनकी संख्या बहोत जल्दी बढती है।
  • Bakri palan  में आपको ये भी बताया जायेगा कि, इनके बच्चे करीब 10 से 12 महीनों में वयस्क होते है।
  • ये बकरियाँ प्रतिदिन 1 किलो दूध देती हैं।
  • इस नस्ल की बकरियाँ मांस तथा दूध उत्पादन हेतु उपयुक्त मानी जाती है।
img_29092016_151103